Ye Duriyaan....

Ye Duriyaan....

Sunday, October 24, 2010

Happy Now.....

अंततः मुझे हिंदी टाइपिंग का तरीका मिल ही गया . आज कुछ नया सिखा इसकी ख़ुशी है और भी अपनी भाषा में लिखना इससे अच्छा और क्या हो सकता है.....मज़ा आ गया....... दिन का अंत इस तरह होगा मुझे उम्मीद नहीं थी क्युकी आज का दिन बहुत ही बेचैनी भरा था ....कुछ समझ नहीं आ रहा था की क्या करना चाहती हु....बस ऐसे लग रहा था की कुछ बदलाव आ जाये....कुछ intersting करने को मिल जाये....और यक़ीनन जो मिला है उसने अचानक ही मेरे chemical हारमोंस का लेवल change कर दिया है...कुछ देर पहले  तक  mein  बहुत dull महसूस हो रहा था और अब में excited  हु .......ये अच्छा लग रहा है.......

No comments: